Saturday, January 5, 2019

What is Impeller and footvalve

इम्पेलर क्या है What is impeller?इम्पेलर के प्रकार types of impeller|impeller ring|फुटवाल्व क्या है what is foot valve ?

पम्प केसिंग के बीच फिट की हुई शाफ्ट के ऊपर एक गोल पहीए के आकार का होता है उसे इम्पेलर कहते हैं।इम्पेलर पम्प केसिंग के अंदर तरल पदार्थ को  घुमाता है घुमाने के कारण द्रव्य मेंं निरवात पैदा कर देता है।इम्पेलर के निम्नलिखित भाग  होते हैं:-

इम्पेलर आई, वैन, स्रोड, हब।
Open impeller

इम्पेलर आई से द्रव्य इम्पेलर के अंदर की तरफ को आता है और वैन उसे घुमा कर सराड से होते हुए वल्यूट चेंबर की तरफ फेंकता रहता है और बाहर की तरफ को डीस्चार्ज होता है इस प्रकार जिस माध्यम से कार्य होता है उसे इम्पेलर कहते हैं।

इम्पेलर के प्रकार Types of impeller

इम्पेलर के मुख्य दो प्रकार होते हैं ओपन इम्पेलर और क्लोज इम्पेलर

  1. Open impeller:- ओपन इम्पेलर का प्रयोग उन तरल द्रव्यों को ऊठाने के लिए किया जाता है जिनमें मोटे तरल पदार्थ जैसे कीचड़ या दूसरे तरल पदार्थ पाए जाते हैं।उन्हें ऊठाने के लिए खुले इम्पेलर का प्रयोग किया जाता है खुले इम्पेलर से भारी प्रेशर नहीं मील पाता है।
  2. Close impeller:- क्लोज इम्पेलर का प्रयोग ज्यादातर पतले द्रव्य को उठाने के लिए किया जाता है इससे ज्यादातर पतले द्रव्य उठाए जाते हैं।क्लोज इम्पेलर मे ज्यादा प्रेशर बनता है या ज्यादा प्रेशर देने की क्षमता है।
Closed impeller

इम्पेलर रींग किसे कहते हैं what is impeller ring?

 वल्यूट या केसिंग के ऊपर इम्पेलर रींग फिट किया जाता है।यदि शाफ्ट को सहारा देने के लिए बीयरिंग खराब हो जाता है तो इम्पेलर की समानांतरता alignment out हो जाती है जिसके कारण इम्पेलर या वल्यूट या केसिंग खराब हो जाती है एसी स्थिति में इम्पेलर के केसिंग को टच होने के कारण बचाव के लिए इम्पेलर रींग फिट की जाती है।जिससे रींगस ही खराब होती है इम्पेलर और केसिंग खराब होने से बच जाते हैं।बाद में इम्पेलर व शाफ्ट के alignment ठीक करने के बाद इम्पेलर रींग को ही बदला जाता है।

                  फुटवाल्व footvalve

फुटवाल्व क्या है what is footvalve ?

फुटवाल्व एक one way or NRV (non return valve)होते हैं।जो कि सक्शन पाइप के मुंह के ऊपर फिट किए जाते हैं फुटवाल्व सक्शन टैंक केअंदर तरल पदार्थ में सक्शन पाइप के ऊपर फिट किए जाते हैं।
Yash
Footvalve

फुटवाल्व की कार्य विधि working rathod of footvalve 

जब पम्प चलता है तो फुटवाल्व पर लगा फ्लैप पम्प की सकींग प्रभाव द्वारा खुल जाता है और तरल पदार्थ को पम्प की तरफ आने देता है।और जब पम्प बंद कर दिया जाता है तो फुटवाल्व की फ्लेप अपनी जगह पर बैठ जाती है तथा पम्प केसिंग से लेकर फुटवाल्व तक तरल द्रव्य  रूकता है।दूसरी बार जब पम्प को दोबारा से चलाया जाता है तो उस रूके हुए तरल द्रव्य की बजह से पम्प मेंं प्राइमींग की आवश्यकता नहीं पडती है।फुटवाल्व का कार्य मुख्यतः पम्प को बार बार प्राइमींग करने से बचाने का होता है।


No comments:

Post a Comment

Thanks for your advice and valuable time

Vice,first aid,