Monday, November 5, 2018

Reamers

रीमर क्या है? Wh is Reemers? यह कैसे कार्य करता है  how it works? रीमर कितने प्रकार के होते हैं? How many types of reamers?

रीमर एक बेलनाकार बहू फ्लूडीड कटिंग टूल है जिसका प्रयोग पहले से ड्रिलिंग प्रोसेस द्वारा किए गए छेद को फिनिश करने के लिए किया जाता है ड्रिलिंग द्वारा जब कोई सुराग किया जाता है तो वह खुरदरा होता है अतः जहां फिनिश किए हुए छेद की आवश्यकता होती है वहां पर रीमर उपयोग किया जाता है। रीमर द्वारा किसी भी छेद को फिनिश करने या उसकी साइज से थोड़ा सा बढ़ाने के प्रोसेस को रिमींग कहते हैं इस विधि द्वारा छेद को + -  0.005 की यथार्थ  मैं बनाया जा सकता है रिमिंग द्वारा 0.02 से 0.15 एम एम तक धातु को काटा जा सकता है इसे रिमिंग एलाउंस भी कहते हैं।
Reamers 


                 Reamers प्राय: high carbon steel या high speed steel से बनाए जाते हैं। और  hard एंड temper किए हुए होते हैं। इनकी body पर सीधे घुमावदार वाले खांचे होते है इनकी अधिक मात्रा में उत्पादन के लिए कारबोकार्बोहाइ टीप वाले रिमर प्रयोग में लाए जाते हैं चैम्फर का कोण बॉडी तथा सैंक  रीमर के मुख्य तीन कोण होते हैं।

रीमर के प्रकार types of Reemar?

रियर प्राय: दो प्रकार के होते हैं:-
  • hand reamer
  • machine reamer
  1. hand reamer:-        इस प्रकार के रीमर रेंन्च या हत्थे की सहायता से प्रयोग में लाए जाते हैं इनकी सैंक सिधी व समान अंतर होती है इन के ऊपरी सिरे पर चकोर टैंग लगी होती है ऐसे रीमर को हाथ  की ताकत से घुमाया जाता हैं। वर्कशॉप में प्राय निम्नलिखित प्रकार के ऋमर प्रयोग में लाए जाते हैं:- समानांतर रीमर, टेपर रीमर, एडजेस्टेबल रीमर,एक्सपेंशन रीमर्स ,पाईलेट रीमर।
  2. मशीन रीयर:-     मशीन रीमर को चैकींग रीमर भी कहते है। इस प्रकार के रीमर पर टेपर सैंक बनी हुई होती है।जिस पर फ्लेट टेंग होती है इस रीयर को मशीन के स्पाइनल में पकड़कर प्रयोग में लाया जाता है पराया निम्नलिखित प्रकार के रीमर प्रयोग में लाए जाते हैं:- रोज reamers,shell reamers,mashine bridge reamers, mashine jinge reamers.

रीमर का प्रयोग करते समय बरती जाने वाली सुरक्षा सावधानियां

  1. रीमर  प्रयोग करते समय रीमर को ड्रिल होल जॉब कि सतह के समकोण में रखना चाहिए।
  2. बंद छेद में रिमिंग करते समय है रीमर को बार-बार बाहर निकालते रहना बाहर निकालते रहना चाहिए।
  3. रीमिंग करते समय उचित लुब्रिकेंट का प्रयोग करना चाहिए।
  4. रीमर को कभी भी मशीन स्पिंडल में  फिट करके रीमिंग नहीं करनी चाहिए।
  5. यदि रिमर का प्रयोग ना करना हो तो उसे तेल लगाकर निजी स्थान पर रख देना चाहिए।

Thanks for reading my blog



No comments:

Post a Comment

Thanks for your advice and valuable time

Vice,first aid,