Friday, November 30, 2018

Looking Device

लाॅकिंग डीवाइस क्या है What is the Loking Device? इनके कार्य और प्रकार 


Screw:- अस्थाई बंधन के लिए नट एवं बोल्ट की ही तरह से ही स्क्रु का भी प्रयोग किया जाता है इनके सिरे पर हेड बना होता है और शीर्ष की पूरी देह पर चूड़ियां कटी होती है पराया हेड में कटे खांचे  पेशकश के प्रयोग से इन्हें उपयोग में लाए जाते हैं ।8 सोकेट हैंड स्क्रु  के द्वारा प्रयोग में लेते हैं स्क्रू प्राय  माइल्ड स्टील के बनाए जाते हैं परंतु कार्य के अनुसार कार्बन स्टील, पीतल एवं एलुमिनियम के स्क्रू भी पाए जाते हैं लकड़ी के कार्य में प्रयोग किए जाने वाले स्क्रु को डूड स्क्रु (dood screw) तथा फेरस मेटल तथा नॉन फेरस मेटल धातु में प्रयोग किए जाने जाने वाले पेचों को मशीन स्क्रु कहते हैं ।मशीन स्क्रु के हैड और चूड़ी वाले लाभ के बीच में थोड़ी सी बोरिंग सरफेस रखे जाते हैं जिस पर चूड़ियां नहीं बनी होती। इनका व्यास चूड़ियों के मेजर व्यास से पिच डायमीटर से अधिक होता है ऐसे स्क्रु का प्रयोग प्राय मशीन के पार्ट का अस्थाई रूप से मिलाने के लिए किया जाता है कार्य के अनुसार यह कई प्रकार के खांचे द्वारा शीर्ष में पाए जाते हैं screw मुख्यत निम्नलिखित प्रकार के होते हैं:-

  1. Cap screw 
  2. colours screw 
  3. shoulder screw
  4.  set screw

बोल्ट Bolt 

यह एक गोल छेद का बना होता है जिसकी एक सिरे पर स्थाई शीर्ष वह दूसरे सिरे पर चूड़ियां कटी होती है जिन पर नट को कस सकते हैं हेड व चूड़ी वाले भाग को शंक कहते हैं यह मुख्यतः माइल्ड स्टील के बने होते हैं परंतु कुछ विशेष कार्य के लिए पीतल तांबे व हल्के लोहे के बने होते हैं इनका साइज चूड़ी वाले भाग के व्यास एवं हैड को छोड़कर शेष लंबाई से प्रकट कर लिया जाता है हैड के विचार से बोल्ट कई प्रकार के होते हैं जैसे hacksaw nut head bolt, square head bolt, round head bolt, T head bolt, counter sunk bolt, hook bolt, I bolt. Etc.

Foundation Bolt

उपयोग किए जाने वाले कुछ और बोल्ट होते हैं जिन्हें फाउंडेशन बोल्ट कहते हैं इनके द्वारा मशीन को भूमि तान पर फिक्स किया जाता है यह फाउंडेशन बोल्ट कई प्रकार के होते हैं जैसे आई फाउंडेशन बोल्ट ,रेंज फाउंडेशन बोल्ट ,काउंटर बोल्ट।

नट क्या है What is Nut? नट के प्रकार Types of nuts :- 

यह चूड़ीदार छेद वाला धातुु का एक टुकड़ा होता हैै जिससे Bolt या stud चूड़ीदार वाले सिरे सेे कसा या चढ़ाया जाता है।नट और बोल्ट की सहायता से दो भागों को जोड़़ दिया जाता है और आवश्यकता पड़ने पर बड़ी आसानी से अलग कर दिया जाता है। अलग करते समय न तो जुड़े हुए पार्ट खराब होते हैं और न ही नट व बोल्ट बना वट के अनुसार नट केइ प्रकार के होते हैं जैसे - haction nut, square nut,  cup nut, domo nut, castle nut, ring nut, big nut,.

What is lock nut ? Or check nut

इसका इस्तेमाल हमेशा साधारण स्टैंडर्ड नट के साथ किया जाता है स्टैंडर्ड नट को कस के ऊपर से लाॅक  नट कस देने पर स्टैंडर्ड नट ढीला नहीं होता है यह चेक नट भी हैक्सा गोल्ड नट ही होता है जिसकी ऊपर नीचे के दोनों साइड चैंफर  की हुई होती है। सर्वप्रथम standard नट को बोल्ट पर जितना टाइट हो सकता है उतना टाईट कर दिया जाता है  फिर चेक नट को उसके ऊपर से कसा जाता है कि चैक नट का निचला भाग स्टैंडर्ड नेट के ऊपरी भाग से सट जाए अंत में चेक नेट को एक स्पिनर से पकड़ कर दूसरे स्पिनर से स्टैंडर्ड नट को पीछे की ओर धक्का दिया जाता है इस तरह दोनों नट एक दूसरे के लिए या बोल्ट के लिए लॉक हो जाते हैं यह सटेन्डर नट को ढीला नहीं होने देते चेक नेट को नीचे एवं स्टैंडर्ड को ऊपर भी लगाया जा सकता है।
Castle nut:- नट के ऊपर कॉलर में स्लॉट्स खांंेच कटे होते हैंं अतः स्लॉटेड नट की अपेक्षा यह मजबूत होता हैैै ब्लॉकिंग अरेंजमेंटग के इसका  प्रयोग भी स्लाइटेड के समान ही समान ही पीन के साथ किया जाता है।
Split Pin :- यह अर्ध गोलाकााार क्रॉस सेक्शन के स्टील  के तार को मुड़ कर बनाई जाती है यह बोल्ट में इस प्रकार के छेद करके फिट की जाती हैै कि नट की उपरी  सतह  पर  इस तरह से सटी रे। इस तरह यह नेट को घूमने और ढीलाा होने नहीं देेीत।
Spring washer:-  spring washer या lock washer लगाकर नट को कस देने पर भी वह ढीला नहीं होता है।
स्टड (stud) :- यह गोलाकार धातु के 30 से बनाए जाते हैं जिनके दोनों सिरों पर चूड़ियां बनी होती है और बीच का भाग कार्य के लिए किया जाता है बीच का भाग गोलिया चकोर होता है। stud का  प्रयोग प्राय टेंम्परेरी  Fasting करने के लिए किया जाता है।
स्टड दो प्रकार के होते हैं:-

  1.  प्लेन स्टड :- यह stud  गोलाकार  धातु की छड से बनाया जाता है जिसके दोनों सिरों पर चूड़ियां बनाई जाती है और बीच का भाग प्लेन रखा जाता है इसका प्रयोग प्राय साधारण कार्य के लिए किया जाता है।
  2. सोडर स्टड :- यह प्लेन स्टड की तरह होता है अंतर केवल इतना होता है कि इसमें एक कंघा बना होता है इसके दांतों पर पर चुडीयां बनी होती है इसी कारण यह स्टड पार्ट की सरफेस पर अच्छी तरह से बैठ जाता है।

Thanks for reading this blog






No comments:

Post a Comment

Thanks for your advice and valuable time

Vice,first aid,