Thursday, October 18, 2018

Try square गुनिया

ट्राई स्कवेयर या इंजीनियर स्कवेयर try square

ट्राई स्कवेयर को इंजीनियर स्कवेयर भी कहा जाता है। यह एक मापक औजार है जिसका प्रयोग जॉब के समकोण को चेक करने के लिए व जॉब की ऊपरी स्तर की समतलता को चेक करने के लिए तथा किसी भी जॉब को मापने के लिए ट्राई स्क्वायर का प्रयोग किया जाता है। इसमें कार्बन इस्पात ( हाई कार्बन स्टील) की एक पत्ती होती है जिसे ब्लेड कहते हैं मृदु इस्पात या (माइलस्टोन ) ढलवा लोहे के स्टॉक के एक सिरे पर 90 डिग्री का कोण बनाते हुए जुड़ी रहती है बलेड 10 सेंटीमीटर से 30 सेंटीमीटर लंबा तक होता है और इसकी स्तर पर सैंटीमीटर एवं मिलीमीटर या इंच के चिन्ह  अंकित होते हैं बलेड प्लेन भी होती है 15 सेंटीमीटर लंबे ब्लेड को 10 सेंटीमीटर लंबे स्टॉक से लगाया जाता है।


Try square


ब्लेड के दोनों किनारों को पूरी लंबाई में सीधा रखा जाता है यह औजार वर्कशॉप कि प्रत्येक शॉप में प्रयोग किया जाता है इसका प्रयोग समानांतर रेखाएं खींचने व उनकी जांच करने के आपस में लंब रेखाएं खींचने तथा किसी प्रकार की पहली खींची हुई रेखाओं की वास्तविक जांच करने के लिए भी किया जाता है ।

 ब्लेड
बीम
Try square

कार्य के अनुसार प्रायर निम्नलिखित प्रकार के ट्राई स्क्वायर प्रयोग किए जाते हैं:-
1 स्थिर ट्राई स्कवेयर fixed try square
2 समायोजक ट्राई स्कवेयर adj.try square
3 डाई मेकर स्केवर dai maker square
4 एवं स्कवेयर  L square

ट्राई स्कवेयर के भाग (Parts of Try square)

 ट्राई स्क्वायर के 2 भाग होते हैं नंबर 1 स्टोर या बीम दूसरा ब्लेड

Try square को प्रयोग करते समय बरती जाने वाली सुरक्षा सावधानियां

1 ट्राई स्क्वायर को कटिंग टूल के साथ मिलाकर नहीं रखना चाहिए ।
2 कार्य करने से पहले वह बाद में इसे अच्छी तरह से साफ करना चाहिए ।
3 ईसे गिरने से बचाना चाहिए ।
4  इसे कभी भी हथोड़ा की तरह प्रयोग नहीं करना चाहिए ।
5 इसके ब्लेड को पेशकश की तरह प्रयोग नहीं करना चाहिए  6 ट्राई स्क्वायर का प्रयोग करते समय इसके ब्लेड को जॉब कि सतह पर रखना नहीं चाहिए बल्कि उठा उठा कर धीरे से रखकर जांच करनी चाहिए।
7 जब ट्राई स्क्वेयर को इस्तेमाल ना करना हो तो इस पर हल्के ग्रेड का तेल लगाकर इसके निजी स्थान पर रख देना चाहिए।

वर्कशॉप में कार्य करते समय हथोड़े 🔨 hammer का प्रयोग भी किया जाता है

      कार्यशाला या वर्कशॉप में कार्य करते समय कारीगर को विभिन्न प्रकार के कार्य करने पड़ते हैं और प्राय ऐसे कार्य जिनमें किसी वस्तु या धातु को ठोकना पीटना पड़ता है जिसके लिए एक चोट लगाने वाले औजार जिसे हैमर या हथौड़ा कहते हैं की आवश्यकता पड़ती है।  हथोड़ा वर्कशॉप तथा दैनिक जीवन में कहीं ना कहीं प्रयोग किया जाता है यह वर्कशॉप का बहुत ही महत्वपूर्ण और आवश्यक औजार है इसके फोरजिंग ,चिपिंग, रिवेटिंग ,मार्किंग, कील ठोकने के लिए एवं निकालने के लिए व टेढ़े मेढ़े जॉब को सीधा करने के लिए प्रयोग किया जाता।
Hammer

हैमर हथौडे का प्रयोग कार्य के अनुसार इसके इसके भार आकार के अनुसार अलग-अलग जगह पर इसका प्रयोग किया जाता है।

हथौड़े के प्रकार types of 🔨 hammer

1 Ball peen hammer 
2 cross peen hammer 
3 straight peen hammer सिधा हत्था
4 double pen hammer दोहरा मुख हत्था
5 claw 🔨 hamnha जंबूरी हत्था
6 soft hammer मृदु हत्था इत्यादि।

हथौडे hammer  को फिट करने की विधि

हथौड़े के हत्थे को नेत्र छीदृ eye hole में ठीक किया जाता है तथा प्राय मजबूत लकड़ी का बना होता है जिसके एक सिरे को रास्प कट rasp cut फाइल को रगड़ कर टेपर  कर लिया जाता है और wedge अनुसार लंबा चौड़ा खांचा काट लिया जाता है ।
खांचे का eye hole नेत्र छीदृ अंडा आकार का बना होता है इसकी आकृति का लाभ है कि चोट लगाते  समय  हत्था ✋ हाथ  में न घुमें हत्थे के हेंडल  की औसत लंबाई 25 से मी से  32 सेंटीमीटर तक रखनी चाहिए और  स्लेज हैमर के हत्थे  की लंबाई किराया 60 से 90 सेंटीमीटर तक रखी जाती है।

 🔨 Hammer या हत्थे का प्रयोग करते समय बरती जाने वाली सुरक्षा सावधानियां

1 कार्य प्रारंभ करने से पहले यह चेक कर लेना चाहिए कि हैमर या हथौड़ा के मुख्य हत्थे पर तेल या ग्रीस नहीं लगी होनी चाहिए 
2 हत्थे का हैंडल ढीला नहीं होना चाहिए ऐसा होने पर वेज wedge को ठीक कर फिट करना चाहिए।
3  बिना wedge  के हैमर का प्रयोग नहीं करना चाहिए।
4 काम करते समय यदि हैमर का फेस फेल जाए तो उसे मशरूम से ग्राइंड या रगड लेना चाहिए।
 5 टूटे हत्थे  या फैले मुख वाले हैमर का प्रयोग नहीं करना चाहिए ।

6 पूरी चोट  देने के लिए हत्थे को आखिर सिरे पर पकड़ना चाहिए ।
7 कार्य करते समय हैमर को उसके हत्थे के सिरे से लगभग 15 से 25 मिलीमीटर छोड़ कर पकड़ना चाहिए ।
8 हत्थे से चोट लगाते समय चोट पढ़ने वाले स्थान को देखना चाहिए ना कि हेमर की ओर देखना चाहिए ।कार्य करते समय हत्थे वाले wedge को समय-समय पर जांच लेना चाहिए कि वह ठीक है या नहीं।
9 हैमर का हत्था गांठ वाला व फटा हुआ नहीं होना चाहिए ।
10 कार्य की प्रवृत्ति के अनुसार हैमर का चयन करना चाहिए।





No comments:

Post a Comment

Thanks for your advice and valuable time

Vice,first aid,