Thursday, October 25, 2018

Measuring tools Calipers

केलिपर Calipers

 Caliper एक अप्रत्यक्ष मापक औजार है जिसका प्रयोग स्टील रूल की सहायता से किसी जॉब या कार्य की लंबाई चौड़ाई मोटाई और व्यास आदि का माप लेने के लिए किया जाता है कलीपर प्राय: हाई कार्बन स्टील या मृदु इस्पात के बनाए जाते हैं इसके की माप लेने वाले सीरों को कठोर एवं पायन किया जाता है। हाई कार्बन स्टील वाले कैलिपर एवं पृष्ठ कठोरी कृत मृदु इस्पात वाले कैलिपर्स को कठोरी क्रीत कर दिया जाता है !

Measuring tools Calipers


कैलिपर का साइज उनकी कीलक पिन या रीीीीबेट के केंद्र से माप लेने वाली सिरे त्तक की दूसरी दूरी से प्रकट किया जाता है कैलिपर विभिन्न विभिन्न वस्तुओं की रीीीी भितरी  एवं बाहरी मापी को नापने तथा स्थानांतरित करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।



you can follow our blog:-




कैलिपर के प्रकार types of caliper

कैलिपर्स को प्राय: रूल के ऊपर लगे निशानों से इंच या एम एम  माप कर कैलीपर को जितना चाहे उतना माप ले सकते हैं
Try square and ruler

Inside and outside calipers


1 बाहरी कैलीपर outside caliper
2 भीतरी कैलीपर  inside caliper
3 जेनी कैलीपर Jenny caliper

1 बाहरी कैलीपर:- 

 बाहरी केलिपर गोल वस्तु के बाहरी व्यास एवं लंबाई तथा चौड़ाई नापने के लिए इस्तेमाल किया जाता है यह 100 से 150 ,200 और 300 एम एम साइज के मिलते हैं कैलिपर की क्षमता वह अधिकतम माप है जो उसे ली जा सकती है और साइड कैलिपर दो प्रकार के होते हैं साधारण कैलीपर स्प्रिंग कैलिपर।

2 भीतरी कैलीपर:- 

भितरी मापों  के लिए उपयोगी कैलिपर को इन साइड कैलिपर कहते हैं। तथा इनका का मुख्य उपयोग भीतरी ता विस तारों को सेट करने उनका कार्य वस्तु पर स्थानांतरित करने या मानकों के साथ जांच लेने के लिए किया जाता है यह कैलिपर्स भी 75 100 150 200 और 300 एम एम साइज में मिलते हैं यह कैलिपर्स भी दो प्रकार के होते हैं दृृड  संधि भीतरी कैलिपर्स , भीतरी  सप्रीींंग कैलिपर्स।

Micrometers

3 जेनी कैलीपर:-

इन्हें विष्मपाद coddlag या हर्माफ्रोडाइट  (harmaphorodite ) कैलिपर्स भी कहते हैं यह  मृदु इस्पात mild steel का बना होता है तथा घीसने से बचाने के लिए इसके पवांइट  का पृष्ठ कठोरन किया हुआ रहता है।
Jenny odd leg and adj.jenny calipers

इसकी एक टांग को विभाजक की तरह सीधी एवं नुकीली होती है परंतु दूसरी टांग का  प्वाइंट    3 से 6 सेंटीमीटर के करीब अंदर की ओर मुड़ा रहता है दोनों टांगों के ऊपर की ओर चौड़ी  तथा पॉइंट की तरफ पतली होती जाती है दोनों टांगें एक दूसरे के साथ रिबेट और वाशर द्वारा कसी रहती है रिवेट ऐसा होता है कि हल्के दाब के द्वारा दोनों टांगों को समायोजित किया जा सकता है सीधे पॉइंट की बनावट के अनुसार जैनी कैलिपर निम्न प्रकार के होते हैं:-
1 ठोस नोक जैनी कैलीपर: किि इसकी  की कार्य कारी  नोंक सीधी टांग से ही बनी होती है।
2 समायोजित नोक जैनी कैलिपर : इनकी कार्यकारि नोंक समायोजित करने योग्य होती है यह समायोजित करने योग्य नोंक सीधी टांग में लगे स्क्रु  के छेद में खीसकती  है जिससे नट को कसकर टांग के साथ आवश्यक स्थिति में कसा जा सकता है इसे मध्य नोंक जैनी कैलिपर भी कहा जाता है।





No comments:

Post a Comment

Thanks for your advice and valuable time

Vice,first aid,