Tuesday, October 16, 2018

वर्कशॉप या कार्य करते समय प्रयोग होने वाले औजार वर्नियर कैलिपर (Vernier Caliper)

वर्कशॉप या कार्य करते समय प्रयोग होने वाले औजार वर्नियर कैलिपर Vernier Caliper

       

                            यह एक प्रकार का सूक्ष्म मापी यंत्र है जिस का अविष्कार फ्रांस में रहने वाले एक व्यक्ति  वेरी वर्नियर  नामक व्यक्ति ने 1630 में किया था ।


Vernier caliper

                       Vernier caliper की सहायता से किसी जॉब के बाहरी भीतरी 0.02 एम एम गहराई के एम एम mmमें मापा जाता है ब्रिटिश प्रणाली 0.001 इंच के परी शुद्धता में एक साथ मापा जाता है क्योंकि यह पराया मीट्रिक तथा ब्रिटिश दोनों ही प्रणाली में अंकित होते हैं यह निकल स्टील के बने होते हैं तथा मीट्रिक प्रणाली में 150 एमएम 300 एमएम एवं ब्रिटिश प्रणाली में 6 इंच 12 इंच तक की साइज में पाए जाते हैं।


वर्नियर कैलिपर के दो अनुरूप फाइलों के अल्पतमांक के lest count के अंतर के आधार पर बनाया गया है जिसमें एक मेन फाइल और दूसरा वर्नियर स्केल होता है मेंन स्केल के एक खाने का मान और 1वर्नियर के एक खाने का मान लेकर अल्पआत्मांक निकाला जाता है।

वर्नियर कैलीपर के भाग

1 बीम main scale
 2 स्थिर जाॅ fixed jaw
3 चल जाॅ  movable jaw
4 vernier scale 

5 loking screw 
6 line adjusting screw
7 inner maseuring etc.
8 file adjusting unit
9 depth strip

वर्नियर कैलिपर के साथ कार्य करते समय बरती जाने वाली सुरक्षा सावधानियां

1 वर्नियर कैलीपर एक सूक्ष्म और सही मापने वाला यंत्र है इसलिए इसे बहुत ध्यानपूर्वक प्रयोग में लाना चाहिए।
2 वर्नियर कैलीपर को कटिंग टूल के साथ नहीं रखना चाहिए।
3 इस पर चोट आदि नहीं लगानी चाहिए क्योंकि ऐसा करने पर यह जल्दी खराब हो सकता है।
4 कोई भी माप लेने से पहले वर्नियर कैलिपर को सही तरीके से चेक कर लेना चाहिए।
5 वर्नियर कैलीपर जॉब को साइज के अनुसार चुनना चाहिए।
6 sliding जाॅ आदि मेन बीम पर  ढीले नहीं होनी चाहिए यदि ऐसा हो तो बोरिंग पती को ठीक कर ले।
8 रीडिंग लेते समय जॉब पर ना तो अधिक दवाब देना चाहिए और ना ही लिंकिंग स्क्रू को टाइट करना चाहिए।
9 कार्य पूरा होने के बाद इसको साफ करके  हल्का सा तेल लगा देना चाहिए।
10 माप लेते समय वर्नियर कैलीपर की परिशुद्धता  देख लेनी चाहिए।
11 वर्नियर कैलीपर को चलती मशीन के  ऊपर कभी भी प्रयोग नहीं करना चाहिए।

कार्यशाला या वर्कशॉप में कार्य करते समय प्रयोग होने वाले मापक औजार

           कारखाने या वर्कशॉप में उत्पादन माप पर आधारित रहता है जब किसी वस्तु पर कार्य किया जाता है व उसको एक ही साइज में बनाया जाता है एक ही साइज को बनाने के लिए माप की जरूरत होती है। और माप लेने के लिए मापक औजारों का प्रयोग किया जाता है परंतु वह बारीक माप नहीं देते हैं ऐसे औजारों को साधारण मापक औजार कहते हैं और कुछ औजार सूक्ष्म माफी औजार होते हैं जिन्हें की सूक्ष्म मापी औजार भी कहते हैं

Vernier caliper

 इन औजारों से छोटे से छोटा माप लिया जाता है वर्नियर कैलिपर ,उंचाई गेज, माइक्रोमीटर तथा वर्नियर बेवल ,चांदा इस वर्ग में आते हैं सभी प्रकार के साधारण तथा सूक्ष्म मापी औजार कोतीन भागों में विभाजित कर सकते हैं:-

1 लंबाई ,चौड़ाई ,मोटाई ,गहराई ,ऊंचाई मापने वाले औजार जैसे रूल कैलिपर्स, वर्नियर कैलिपर्स ,माइक्रोमीटर ,वर्नियर गहराई व ऊंचाई गेज आदि।
2  कोण मापने वाले औजार जैसे कोण चांदा, वर्नियर बेवल चांदा तथा साइन वार आदि।
3 सत्तह  की जांच करने वाले औजार जैसे गुनिया try square, surface plate, surface guige, Dail indicator, आदि।

साधारण मापक औजार simple measuring tools

Rule :-
                यह लकड़ी तथा धातु का बना एक मापक औजार है यह जिस पदार्थ का बना होता है उसी पदार्थ के नाम से इसका नाम पड़ता है जैसे इस्पात का रूल ,लकड़ी का रूल ,पीतल का रूल इत्यादि प्रत्येक रूल पर निशान भी एक प्रकार के नहीं होते प्रत्येक कंपनी का अपना-अपना मानक संयोजन होता है जिसके अनुसार कंपनियां रूल पर इंच ,सेंटीमीटर अथवा मिलीमीटर के भागों के चिन्ह करती है।

रूल के प्रकार types of rule

rule
 steel rule,
मानक स्टील रूल 
लचीला Steel rule
संकीर्ण narrow steel rule

हुक रूल 
चाबी पीठ रूल
छोटा रूल
 स्टील टेप रूल
 स्टील टैप
फोल्डिंग स्टील रूल 
संकुचन रूल
 स्केल रूल आदि।

लंबाई के मापक

मिलीमीटर, सेंटीमीटर ,इंच, फुट ,मीटर, किलोमीटर
1 mm= .03937 " (inch)
1 cm= 10 mm
1 inch (")=25.4 mm
1 inch   =  2.54 cm
1 feet =12 "
1 miter =3.28 feet
1 miter =100 cm
1 miter= 1000mm
1 kilometre =1000 mters

कार्य करते समय बरती जाने वाली सावधानियां

1 स्टील रूल को कभी भी कटिंग टूल के साथ मिलाकर नहीं रखना चाहिए।
2 स्टील रूल को कभी भी पेशकश की तरह प्रयोग नहीं करना चाहिए।
3 स्टील रूल को हमेशा साफ रखना चाहिए ताकि माप लेते समय उसके निशान साफ दिखाई दे सके।
4 रूल को समय-समय पर हल्का तेल लगाते रहना चाहिए।
        

No comments:

Post a Comment

Thanks for your advice and valuable time

Vice,first aid,