Sunday, October 14, 2018

File

तीसरा औजार फाईल (Files)

किसी भी धातु या किसी अन्य कठोर वस्तु की सतह पर से रगड़ कर पदार्थ को थोड़ी थोड़ी मात्रा में हटाने की प्रक्रिया को रेत ना कहते हैं।
         किसी मशीन के दो पूरजो को आपस में सही स्तर पर बनाने के लिए फाइल का प्रयोग किया जाता है जिस धातु के द्वारा उन सतहों को काटा जाता है उस रेतने वाले औजार को उपयोग में लाया जाता है उसे रेती file कहा जाता है। रेती एक प्रकार का कटिंग हैंड टूल है इसके द्वारा पारट या जाब को अलग अलग तरह से रेता जाता है सीधे आकार आयताकार आकार गोलाकार अर्ध गोलाकार त्रिभुजाकार में धातु को काटने के लिए किया जाता है ताकि भाग को सही साइज का बना सके।
Files

        रेती files मृदु इस्पात की बनी होती है रेती को कठोरी करण एवं पायनीकरण नामक उष्मा उपचार किए जाते हैं।

रेती के भाग (Types of file)

Face,pont ,edge, hill, tang, solder,length

रेतियों का वर्गीकरण Classification of File

रेडियो का वर्गीकरण एवं नामकरण निम्नलिखित गुणकों के आधार पर किया जाता है:-

size , आकरीती, दांतो का कट, दंत संख्या।

फाइलों के प्रकार Type s of File:-

1 चपटी फाइल (फ्लैट file)
 2 बाइंडिंग फाइल (winding file)
3  हस्ती रेती ( hand file) 
4  पिलर file
Flat file

5  वर्गाकार रेती (square file)
6 त्रिभुजाकार रेती (triangular file)
7  गोल रेती (round file)
8 अरधगोल  रेती  (half round file)
9 क्षुरधार रेती (knife edge file)
10  सुई रेती (needle file)

रेती की पीनीगं Pining of File

      रेती द्वारा किसी कार्य को रेतते समय   कभी-कभी इसके द्वारा कटे छोटे-छोटे  कुछ कण  इसके दांतो के बीच में फंस जाते हैं इसे रेती की पींनिंग कहते हैं।


           यदि इन फंसे हुए कणों के साथ रेती द्वारा रेतने का कार्य जारी रखा जाए तो तेज धार वाले एक फसे हुए कण कार्य की सतह पर खरोच के निशान बना देते हैं जिससे वह ना तो अच्छी दिखाई देती है और ना ही ठीक बन पाती है इसको दूर करने के लिए फाइल कार्ड द्वारा फंसे हुए कणों को दांतो के बीच से निकाल देना चाहिए तथा रेती के फेस पर सूखा चौक लगा देना चाहिए मुलायम धातु से रेतते समय  तथा चिकनी रेती को अधिक दबाव देकर चलाते समय पींनीग प्राया जल्दी हो जाती है।

फाइल कार्ड क्या होता है ?what is file card?

यह एक प्रकार का ब्रश होता है जो पतले परंतु कठोर तारों का बनाया जाता है इसे लकड़ी के एक ऐसी टुकड़े में लगाया जाता है



जिसके दूसरे सिरे पर एक हत्था handle बना होता है इसका मान रहता है तथा शेष एक तिहाई 1/3 लंबाई वाला नोक की ओर वाला भाग पेपर होता है बिना पेपर वाली गोल
रेतिया भी मिलती है फाइल कार्ड तो प्रयोग करते समय इसे उसी दिशा में चलना चाहिए जिसमें रेती के दांते कटे हो।

रेतना क्या है 

धातु को रेती द्वारा काटने की विधि फाइलिंग कहते हैं फाइलिंग की निम्नलिखित विधियां हैं:-
1 सीधा रेतना
Single cut

2 क्रॉस रेतना
3 Draw filing
4 वक्र रेतना (curve filing )

रेतने की विधियां फाइलिंग ऑपरेशन(Filing Operations)


रेतते समय जिस क्रिया से धातु के फालतू पदार्थ को फाइल द्वारा रगड़ रगड़ कर हटाया जाता है उसे फाइलिंग कहते हैं फाइलिंग करते समय निम्नलिखित क्रम को ध्यान में रखना चाहिए:-
1 सबसे पहले कार्य के अनुसार फाइल का चयन करना चाहिए ।
2 जॉब को वॉइस के बीच में ठीक तरह से पकड़ लेना चाहिए जॉब को वॉइस के जबड़ों से तीन उचाई कारीगर की कोहनी की ऊंचाई के बराबर होनी चाहिए।
3 फाइल के हत्थे को हथेली का सहारा देकर पकड़ना चाहिए 4 वाइस के सामने खड़े होकर कार्य आरंभ करना चाहिए खड़े होते समय दोनों पैरों के बीच 20 से 30 सेंटीमीटर की दूरी होनी चाहिए।
5 सतह को एक जैसी समतल का बनाने के लिए फाइल को जॉब के एक सिरे पर रखकर क्रिया आरंभ करके फाइल को चलाते समय दूसरे सिरे तक ले जाना चाहिए।
6 फाइल पर दाब एवं ताकत आगे के स्ट्रोक में हीं लगानी चाहिए और लगभग 40 से 60 स्ट्रोक प्रति मिनट लगने चाहिए।
7 सतह के बन जाने के बाद उसकी समतलता की जांच गुनिये try square से करनी चाहिए।
8 जहां तक संभव हो फाइल करते समय फाइल की पूरी लंबाई को प्रयोग में लाना चाहिए।
9 फाईलिंग  करने के बाद जॉब व फाइल को अच्छी तरह से साफ करके उनको उपयुक्त स्थान पर रखना चाहिए।


No comments:

Post a Comment

Thanks for your advice and valuable time

Vice,first aid,